Poem: Age limits- Just the number or definite limit

Poem Theme: Age Limits – Just the number or definite limit?
Team Tarundeep Kaur, Ankit Khandelwal

It involves debate among a father and her daughter. She does not want to get married and like to live life in her own terms. Her father is worried of her age and unable to understand her refusal to settle down. In this poetry a loving father tries to convince her daughter and her daughter in reply try to convince her father to accept each others view. I have written point of the view of the father (marked in italic) and Traundeep written point of view of the ageing daughter.

Mere dil ko u hi massom rehne do
kuch manchai si kahani kehne do
mujhe dar lagta hain tum bado ki duniya se
main bacchi hoon mujhe bacchi hi rehne do

मेरे दिल को यू ही मासूम रहने दो
कुछ मनचाई सी कहानी कहने दो
मुझे डर लगता हैं तुम बडो की दुनिया से
मैं बच्ची हूँ मुझे बच्ची ही रहने दो

Masumiyat ke naam per umar ko u na badne do
Manchahi kahani per kaale baalon ko na jhadne do
Dar mujhe lagta hain samaj ke un bade thekdaaro se
Jo meri aankhon ke taare ko khule aakash main udne na de

मासूमियत के नाम पर उमर को यू ना बड्ने ना दो
मनचाही कहानी पर काले बालों को ना झड़ने दो
डर मुझे लगता हैं समाज के उन बड़े ठेकेदारो से
जो मेरी आँखों के तारे को खुले आकाश मैं उड़ने ना दे

Jaanti hum meri jagah tumharein dil main khas hain
jananti hoon mujhe mehfooj rakhna tumharein dil ki awaak hain
Yeah saalon ki ginti mari parvaaj ko kaise rokegi
Main parinda hoon mujhe mere paro paro per vishwas hain

जानती हम मेरी जगह तुम्हारें दिल मैं खास हैं
जननती हूँ मुझे महफूज रखना तुम्हारें दिल की अवाक हैं
यॅ सालों की गिनती मेरी परवाज़ को कैसे रोकेगी
मैं परिंदा हूँ मुझे मेरे परो पर विश्वास हैं

Parinde ke paro ko dhalti umar se koi bacha nahi sakta
Saathi ke saath main jindgi main udne se samjrupi bahrupiya apne jaal main fasha nahi sakta
Sang kisi ke saath chalne se sapne daba nahi karte
Is bandhan ko nibhakar hi to parinde bhi saat samundar hain paar karte

परिंदे के पारो को ढलती उमर से कोई बचा नही सकता
साथी के साथ मैं जिंदगी मैं उड़ने से समाज रूपी बाहरूपिया अपने जाल मैं फसा नही सकता
संग किसी के साथ चलने से सपने दबा नही करते
इस बंधन को निभाकर ही तो परिंदे भी सात समुंदर हैं पार करते

Yu to kehne ko duniya main tamam jal hain
chin lete hain udan kisi se, jo iman se kangal hain
main kaise ginu ye lambe saal chaar diwari main
meri unchi udan ke lamhe hi meri jindagi ke saal hain

यू तो कहने को दुनिया मैं तमाम जाल हैं
चीन लेते हैं उड़ान किसी से, जो ईमान से कॅंगाल हैं
मैं कैसे गिनू ये लंबे साल चार दीवारी मैं
मेरी उँची उड़ान के लम्हे ही मेरी जिंदगी के साल हैं

Char diwari nahi kisi ke ghar ki banogi tum rani
Sangharsh ki udan ke char lamhe nahi jeevan bhar sone ke bartono main piyogi tum pani
Ab bhi samay hain, is paagalpan main apni jindagi ko u jaaya karna band karo
or umar badne se pehle tham lo kisi ham umar saathi ka haath

चार दीवारी नही किसी के घर की बनोगी तुम रानी
संघर्ष की उड़ान के चार लम्हे नही जीवन भर सोने के बार्तोनो मैं पियोगी तुम पानी
अब भी समय हैं, इस पागलपन मैं अपनी जिंदगी को यू जाया करना बंद करो
ओर उमर बद्ने से पहले थाम लो किसी हम उमर साथी का हाथ

Har saathi ko chahyiye wajash saath hone ki
Me aaward badli hu nahi chidiya sone ki
Umarka kya hain ek ginti hi to hain
Qaid to phir bhi qaid hain chahe lohe ki ya sone ki

हर साथी को चह्यिये वजह साथ होने की
मे आवारा बदली हू नही चिड़िया सोने की
उमर का क्या हैं एक गिनती ही तो हैं
क़ैद तो फिर भी क़ैद हैं चाहे लोहे की या सोने की

Badal chuka hain ab jamana,
ladkiyon ka kaam nahi ab sirf ghar baithkarke khana banana
per rishton ke dor tale hi sincha hain insaan ka jivan
samjah na aaya mujhe, jimmedariyon ko apnakarke kyun pasand nahi hain tumhein ghar basana

बदल चुका हैं अब जमाना,
लड़कियों का काम नही अब सिर्फ़ घर बैठ करके खाना बनाना
पर रिश्तों के डोर तले ही सिचता हैं इंसान का जीवन
सम्झ ना आया मुझे, ज़िम्मेदारियों को अपनाकारके क्यूँ पसंद नही हैं तुम्हें घर बसाना ?

Ghar basane ka sapna mera bhi hain
kisi ke ho jaane ka arman mera bhi hain
per umar be bahane purane ho gayae
jo dil ko bhaayein uska ho jaane ka armaan mera bhi hain

घर बसने का सपना मेरा भी हैं
किसी के हो जाने का अरमान मेरा भी हैं
पर उमर बे बहाने पुराने हो गये
जो दिल को भायें उसका हो जाने का अरमान मेरा भी हैं

u filmi baaton se apne aap ko na behkao
kalpnikta ke dhartal per vastvikta ke ghar na banao
umer ke bahane ho bhale hi purane , pur koshish na karogi agar samay rehte
to umar badne per kaise paogi apne manbhawan rajkumaron ke rishte

यू फिल्मी बातों से अपने आप को ना बहकाओ
कॅलप्नाइक्टा के धरतल पर वास्तविकता के घर ना बनाओ
उमेर के बहाने हो भले ही पुराने , पर कोशिश ना करोगी अगर समय रहते
तो उमर बद्ने पेर कैसे पओगि अपने मनभावन राजकुमारों के रिश्ते ?

Kyun na ham ye jhagda band kare, tum mere apne ho
tum kehna jo tumhara anubhav hain, me kahungi jo mere sapne ho
tumne umar se kuch sikha hain, mera dil abhi saalo ko ginta nahi
Dono ko sun le, dono se seekh le, shayad tabhi poore mere sapne ho

क्यूँ ना हम ये झगड़ा बंद करे, तुम मेरे अपने हो
तुम कहना जो तुम्हारा अनुभव हैं, मे कहूँगी जो मेरे सपने हो
तुमने उमर से कुछ सीखा हैं, मेरा दिल अभी सालो को गिनता नही
दोनो को सुन ले, दोनो से सीख ले, शायद तभी पुर मेरे सपने हो

Ungali padkarke jab tumhein chalna sikhaya, tumhari shaadi ki jimmedari ko bhi apnaya,
kaise samjahu is pita ke man ko ki meri umrdaraj beti ne ajad jeevan ko hain apna lakshya banaya
per maani tumhari baat, badti umar ko lekarke na jhagadenge ham aaj ke baad
or karenge ham shaadi ki baat sirf tumharein saarein sapne saakar hone ke baad
उंगली पड़करके जब तुम्हें चलना सिखाया, तुम्हारी शादी की ज़िम्मेदारी को भी अपनाया,
कैसे सॅम्जाहू इस पिता के मन को की मेरी उम्रदराज बेटी ने आज़ाद जीवन को हैं अपना लक्श्य बनाया
पर मानी तुम्हारी बात, बड्ती उमर को लेकैरके ना झगदेंगे हम आज के बाद
ओर करेंगे हम शादी की बात सिर्फ़ तुम्हारें सारें सपने साकार होने के बाद

Entry was part of the ‘Vers-Spar-a-Debate’ event organized by Let Poetry Be, Bengaluru on 21-02-2015.

Disclaimer This work is purely based on imagination of the two authors, it may or may not coincide with real life situation.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s